swami-face

अहम् भाव के कारण ही हम स्वरुप से अनभिज्ञ रहते हैं। इस अहम् के मिट जाने पर, इसके नष्ट हो जाने पर हम अपने स्व-स्वरुप में स्थित हो जाते हैं। स्व-स्वरुप की स्थिति प्राप्त होने पर हम कर्त्तापन तथा भोक्तापन से दूर हो जाते हैं।
हरि ॐ !

Menu
WeCreativez WhatsApp Support
व्हाट्सप्प द्वारा हम आपके उत्तर देने क लिए तैयार हे |
हम आपकी कैसे सहायता करे ?