ezimba_new_lo
श्रावण से हमारी ‘प्रमाण’ असंभावना दूर होती है और मनन से ‘प्रमेय’ असंभावना दूर होती है। निदिध्यासन से हमारी विपरीत भावना दूर होती है।
हरि ऊँ !

Menu
WeCreativez WhatsApp Support
व्हाट्सप्प द्वारा हम आपके उत्तर देने क लिए तैयार हे |
हम आपकी कैसे सहायता करे ?