ezimba_new

जब आदित्य छिप जाता है, चन्द्रमा अस्त हो जाता है, अग्नि बुझ जाती है और वाणी भी शान्त हो जाती है, तब आत्मा ही उसकी ज्योति होती है। 

हरि ऊँ ! 

Menu
WeCreativez WhatsApp Support
व्हाट्सप्प द्वारा हम आपके उत्तर देने क लिए तैयार हे |
हम आपकी कैसे सहायता करे ?