swami-face

सारे भेद इस जगत में हैं, व्यवहार में हैं, सत्‍य तो एक ही है। सारा भेद उपाधिगत है, कल्पित है। भेद बुद्धि ही प्रवृत्ति-निवृत्ति की समस्या का कारण थी। अब भेद बुद्धि समाप्त हो गयी जिससे सारी समस्या ही शांत हो गयी।

हरि ऊँ !

Menu
WeCreativez WhatsApp Support
व्हाट्सप्प द्वारा हम आपके उत्तर देने क लिए तैयार हे |
हम आपकी कैसे सहायता करे ?