swami-face

जब तक प्राण चल रहे हैं तब तक जीव बँधा हुआ है। जब तक जीव के भीतर में पाँच महाभूत हैं, वह फँसा पड़ा हुआ है। इन्द्रियां हैं तो फँसी हैं। यहाँ पर जीव कुछ न कुछ कर्म करता रहता है और फंसता रहता है।
हरि ॐ !

Menu
WeCreativez WhatsApp Support
व्हाट्सप्प द्वारा हम आपके उत्तर देने क लिए तैयार हे |
हम आपकी कैसे सहायता करे ?