swami-face

कर्म स्वयं में जड़ है अर्थात कर्म का चेतन जीव के बिना कोई अस्तित्व नहीं है। कर्म फल का प्रदाता ईश्वर है परन्तु मनुष्य अज्ञान वश स्वयं को कर्ता मान कर अभिमानी बन जाता है। अभिमान का सृजन ही स्वार्थ वश कर्म के लिए प्रेरित कर कर्म के महा समुद्र में धकेल देता है जिसमें मनुष्य जीवन भर कर्म बंधन के भँवर में चक्कर काटता रहता है।
हरि ॐ !

Menu
WeCreativez WhatsApp Support
व्हाट्सप्प द्वारा हम आपके उत्तर देने क लिए तैयार हे |
हम आपकी कैसे सहायता करे ?